sach mano to

Just another weblog

116 Posts

2045 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4435 postid : 210

आप किस टीम में हैं...

Posted On: 24 Jul, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

देश में टोलियां घूम रही हैं। कहीं युवाओं की फौज तैयार हो रही है। कहीं भ्रष्टाचार के खिलाफ लोगों को गोलबंद किया जा रहा है। एक टीम, भारत-पाक की नजदीकी पर गौर फरमा रही है। दूसरी, उपन्यासों को पढ़कर, सूत्र निकालने, हमले की तैयारी में है। कमोबेश, टोलियों का लक्ष्य एक ही है, गोटी लाल करना। देखिए अपने अमूल बेबी को। युवाओं को एकजुट करने में लगे हैं। उनकी अगुवाई में पूरे भारत के युवाओं में बदलाव लाने की मुहिम चल रही है। उनकी ललकार युवाओं की आवाज बनें यही चाह है गांधी की। हजारों की भीड़ से पांच-दस ऐसे नौजवानों की तलाश, खोज मे राहुल बाबा लगे हैं जो तकदीर बदलने की काबिलियत रखते हों। जो यूपी के बहाने पूरे देश से अत्याचारी व अन्यायी व्यवस्था को हिला के रख दे। उनकी संघर्ष दिल्ली तक गूंजे। मायावती का पत्ता साफ हो सके। उसके लिए युवा रूपी हथियार की जरूरत है राहुल गांधी को। एक टीम दिल्ली में डेरा डाले हुए है। चांदनी चौक के 17 इलाकों को भ्रष्टाचार के खिलाफ तैयार करने की जुगत में अन्ना की टीम लगी है। जनमत संग्रह हो रहा है। कैसे मिटेगा देश से भ्रष्टाचार। अहम सवाल का साधारण, टका सा जवाब। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के जिम्मे सौंप दो। बारह सवाल बारह तरीके से। अमर सिंह उलझ गए हैं सवालों का जवाब देते। अब नोट लिया तो बदले में वोट तो दिया ही। इसमें पूछने की बात क्या है। अगर नहीं कुछ देते, पैसा गपतगोल कर देते तो फंसते। अब वोट दिया बात खत्म। सत्ता को गिरने से बचाया ये कम थोड़े ना है। कुछ खा के अगर देश पर चुनाव नहीं थोपा,करोड़ों बचाया, उल्टे पुलिस सवाल-दर-सवाल कर रही है। अब तिवारी रक्त का नमूना देने से इनकार कर रहे हैं इन्हें पितृत्व मामले में डीएनए जांच नहीं करवानी तो कोर्ट ने क्या कर लिया। भई, तिवारी जैसे कई राजनेता डीएनए टेस्ट करवाने लगे तो पता चले कि इंडिया थाईलैंंड हो गया। फिर श्रीपद्मनाभस्वामी मंदिर में छठे तहखाने के लिए कमेटी नहीं बनानी पड़ती। अपने धोनी को नहीं देखते। गेंदबाजी कर रहे हैं। भारत के पास गेंदबाज नहीं है तो क्या करे बेचारा। कप्तान हैं तो सोचेगा टीम के लिए कौन। धोनी भी किताबों को पढ़कर गेंदबाजी सीख रहे हैं। इन दिनों कई आतंकवादी गुट जासूसी किताबों को पढ़कर सीक्वल पर सीक्वल, मर्डर के बाद मर्डर-2 फिल्में देखकर, कहानियां व मौलिक आइडिया को चुराकर सीरियल ब्लास्ट करावा रहे हैं। मुंबई में 2008 में आतंकी हमला इन्हीं उपन्यासों के पन्ने हैं। यह बूटल आर्ट आफ रिपिंग, पोकिंग एंड प्रेसिंग वाइटल टारगेट्स की देन है कि हिना को ऐसे समय में पाक की विदेश मंत्री पद सौंपा गया है जब भारत-पाक के बीच शांति वार्ता भी चल रही है और पाकिस्तान का दोहरा चरित्र भी उजागर हो रहा है। पाक भारत के खिलाफ छद्म युद्ध लडऩे की तैयारी में चरमपंथी समूहों को उकसा, पाल रहा है। अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन भारत की प्रगति देखकर लौट गयी हैं। रिश्ते मजबूत करने आयी थी। आतंकवाद को सफाया करने के लिए भारत के नेतृत्व में एशिया प्रशांत क्षेत्र के भविष्य को सकारात्मक शक्ल देने की बात कर रही थी अब पाकिस्तान के लिए जवाब खोज रहीं हैं। कश्मीर के अलगाववादी नेता व आइएसआइ एजेंट गुलाब नबी फई की गिरफ्तारी पर अमेरिका को कोसता पाकिस्तान सामने खड़ा है। उसे संभालने के लिए टीम नहीं है अमेरिका के पास। वैसे भी अमेरिकी टीम लाचार है। तिब्बत किसका है वह उसे मालूम नहीं। चीन को रूठने से रोकना व दलाई लामा से गलबाहियां करना उसकी मजबूरी है। अब एफबीआइ की टीम रूपर्ट मर्डोक की न्यूज कार्पोरेशन की अमेरिका में गतिविधियों की जांच करेगी तो करे। कैटरीना के पास अब बाइक नहीं है। वो बाइक चलाना चाहती है सो, टीम मिल गयी है। रितिक अब उसे एक बाइक देंगे। कैटरीना ने रितिक को बाइक पर घुमाकर अपने बेहतर चालक होने का प्रमाण भी दे दिया है। तो बात हो रही थी टीम की,
भई, ये मौसम ही ऐसा है टीम ऐसे ही हर रोज बनेगी, अब आपको सोचना है कि आप किस टीम का हिस्सा बनना पसंद करेंगे।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

shailendra के द्वारा
July 28, 2011

IThe people of India now needs to develop a cerebrate to work as team rather than working to group a new groups round there life. Hope the new generation around us learns few things from your energetic and fruitful dialogues round this article.(As Our elder generation has done a lot in maintaing the spirit of Indian culture and our supremacy in World politics/power).

    manoranjan thakur के द्वारा
    October 30, 2011

    थैंक्स शैलेन्द्र

Tamanna के द्वारा
July 25, 2011

बढ़िया रचना मनोरंजन जी… http://tamanna.jagranjunction.com/2011/07/23/lokpal-and-civil-society-corrution-in-india/

    manoranjan thakur के द्वारा
    July 25, 2011

    बहुत बहुत साधुबाद आपने सराहा

manoranjan thakur के द्वारा
July 25, 2011

श्री राजकमल भाई बहुत बधाई

nishamittal के द्वारा
July 25, 2011

किसी को भी नहीं बक्शा आपने मनोरंजन जी.

    manoranjan thakur के द्वारा
    July 25, 2011

    धन्यवाद निशाजी आपने सराहा

rajat के द्वारा
July 24, 2011

bahut hi badiya lekh

    manoranjan thakur के द्वारा
    July 25, 2011

    thanks rajatji

Santosh Kumar के द्वारा
July 24, 2011

आदरणीय ठाकुर साहब , सादर नमस्कार ,…बहुत बढ़िया टीम विवरण ,…टीमो के चक्कर में बड़े बड़े घनचक्कर बन रहे हैं ,..तो हमारी क्या बिसात ,..हमारी अपनी विचारू टीम ही ठीक है ,…. सादर आभार


topic of the week



latest from jagran